RTO Full Form In Hindi | RTO Ka Full Form (संपूर्ण जानकारी)

यदि आपका खुद का कोई Car या फिर कोई Bike है, तब आप जरूर RTO शब्द से परिचित होंगे, यदि आप RTO Full Form In Hindi और RTO क्या है RTO का फुल फॉर्म क्या है के बारे में नहीं जानते तब यह ब्लॉग पोस्ट आप सभी लोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद होने वाला है। 

RTO Kya Hai - RTO Ka Full Form, RTO Ka Full Form,RTO Full From In Hindi,RTO Kya Hai,
RTO Full Form In Hindi 

RTO का मतलब है रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस रीजनल का मतलब है, उस एरिया में जहाँ आप रहते है यानी की हर रीजनल में RTO का ऑफिस होता है।


RTO का असल उद्देश्य सभी प्रकार के वाहन से जुड़ी जानकारी तथा कौन रूल्स निभा रहा है और कौन नहीं निभा रहा है। चलिए RTO Kya Hai और RTO Full Form In Hindi के बारे में जानते हैं।


RTO क्या है


RTO यानी Regional Transport Office भारत सरकार का ट्रांसपोर्ट से जुड़ा संस्था है, जो की सभी प्रकार के वाहन व उनके चालान से जुड़ी सभी प्रकार की सूची की जानकारी रखता है, Regional Transport Office का हर राज्य में अलग-अलग ऑफिस होता है। 


जहाँ पर व्यक्ति जाकर अपना ड्राइविंग लाइसेन्स बनवा सकता है, तथा वाहन से जुड़ी सभी जानकारी भी ले सकते है। RTO रोड से जुड़े अलग अलग प्रकार के टैक्स भी एकत्रित (Collect) करता है, जैसे रोड टॅक्स (Road tax/ Duty taxes) या वाहन से जुड़ा टैक्स इत्यादि। 


पिछले कुछ समय से कोरोना के कारण RTO के ऑफिस बंद होने के कारण काफी लोगों का ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) नहीं बन पाया है, लेकिन अभी सभी राज्यों के RTO ऑफिस खुल चुके है इसका मतलब अब आप कभी भी जाकर अपना ड्राइविंग लाइसेंस तथा अपने वाहन से जुड़ा कोई भी काम करवा सकते है जैसे ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना, पॉल्यूशन से जुड़ा दस्तावेज बनवाना आदि। 


RTO का अपना एक कोड होता है, यानी की हर राज्य में RTO के ऑफिस की लोकेशन के अनुसार उसका कोड निर्धारित किया जाता है। RTO मोटर व्हीकल आक्ट 1988 (Motor Vehicle Act 1988) के तहत कार्य करता है, यह मोटर व्हीकल आक्ट 1988 में मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट में एस्टाब्लिशड हुआ था। मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट (Motor Vehicle Department) का काम RTO जैसे संस्थानों को चलना होता है। 


RTO के डिपार्टमेंट को चलाने वाले को ट्रांसपोर्ट कमिश्नर (Transport Commissioner) कहते है। जो सभी प्रकार की ट्रांसपोर्ट से जुडी गतिविधियों पर पूरी नज़र रखता है, RTO का अपना एक कोड होता है, अलग अलग राज्य के लिए जैसे आंध्र प्रदेश के लिए AP कोड उपयोग किया जाता है, और आदि राज्यो के लिए इसी तरह से अलग अलग प्रकार के कोड अलग अलग राज्य के लिए उपयोग किए जाते है। 

RTO Full Form In Hindi - RTO का फुल फॉर्म


RTO ने हर एरिया में हर व्यक्ति का एक डिजिटाइज्ड कार्ड (Digitized Card) बनाया है, कार्ड पर उस व्यक्ति का फोटो, नाम और उसके वाहन संबंधित जानकारी होती है। 


इसके अलावा RTO रोड और ट्रैफिक से जुडी सभी प्रकार की इनफार्मेशन और जानकारी पर भी ध्यान देता है, जैसे रोड से जुड़े सारे टैक्सेज और भी बहुत कुछ, तो यदि हम RTO Ka Full Form क्या है के बारे में बताए तो वह है -


RTO Ka Full Form - Regional Transport Office (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय)।


RTO Full Form In Hindi -  Road Transport Office RTO का ही एक और Full Form है, RTO का Full Form Road से जुड़े किसी कार्य से सम्बंदित काम में उपयोग की जाती है। 

RTO क्या कार्य करता है


RTO Kya Hai और RTO Ka Full Form Kya Hai के बारे में तो आप जान ही गए होंगे अब यदि RTO के कार्य के बारे में बताएं तो RTO का मुख्य कार्य नए वाहन यानी New Car, New Bike का रजिस्ट्रेशन करवाना होता है, इसका यह अर्थ है मान लीजिए आपने कोई नया वाहन खरीदा है, तो आप RTO ऑफिस जाकर उस वाहन का पंजीकरण करवा सकते हैं। RTO केवल Registration करवाने का कार्य ही नहीं करता बल्कि आरटीओ और भी कई कार्यकर्ता है जैसे कि -


1)अगर आपको  गाडी चलना (ड्राइविंग) अच्छे से आता  है और आप अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना चाहते है, तो आप RTO के ऑफिस जाके अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते है। 


2)RTO government के ट्रांसपोर्ट से जुड़े सभी प्रकार के रूल्स को लागू करने का काम भी करता है ताकि ट्रांसपोर्ट से जुड़े कामो में किसी को कोई भी प्रकार की परेशानी ना हो 


3)RTO इस बात का भी ध्यान रखता है की कौन सा वाहन कितना पोल्लुशण (Pollution) फैला रहा है इस बात को जानने के लिए वो हर वाहन का पोल्लुशण से जुड़ा दस्तावेज (Pollution certificate) चेक करता है ये दस्तावेज बताता है की वो वाहन का कंडीशन कैसा है या उसका पोल्लुशण स्टेटस केसा है वो पोल्लुशण ज्यादा फैलता है या काम फैलता है 


4)RTO उन सभी की एक सूची बना कर रखता है जिनको लाइसेंस मिला ताकि बाद में लाइसेंस रेनू (Renew) के समय उसके पास पहले से उन सभी व्यक्तियों की जानकारी हो जिन्होंने लाइसेंस बनवाया है और जिनको लाइसेंस रेनू करवाना है 


5)RTO टैक्स भी एकत्रित (Collect) करता है जैसे की रोड टैक्स/ या व्हीकल एक्साइज ड्यूटी (Vehicle Excise Duty taxes) टैक्स  इत्यादि 


6)RTO उन सभी वाहनो की भी अच्छे से सूचि बनाकर जांच करता है जिनका एक्सीडेंट हुआ तथा अनजान वाहनो से जुडी सभी प्रकार की जानकारी भी रखता है 


7)RTO अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी ड्राइविंग करने का परमिट देता है, ताकि किसी भी प्रकार के सामान को लाने ले जाने में किसी भी तरह का परेशानी न हो। 

RTO पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न -


1)RTO में लर्निंग लाइसेंस कब तक वैध रहता है? 


RTO में लर्निंग लाइसेंस केबल 6 महीने के लिए ही वैध रहता है। 


2)RTO मुख्य तौर पर क्या कार्य करता है? 


RTO Office ड्राइविंग लाइसेंस को जारी करने का और भारत में चलने वाली सभी Vehicle का रजिस्ट्रेशन करने का कार्य करता है। 


3) RTO Ka Full Form In Hindi क्या है? 


RTO क्या है? यह तो आप पोस्ट को पढ़ कर जान ही गए होंगे अब हम यदि, RTO Ka Full Form क्या है के बारे में बताए तो वह "Regional Transport Office" होता हैं। 


4) Vehicle Tax Online भरा जा सकता है? 


हां ऑनलाइन vehicle tax भरा जा सकता है। 


5)RTO हेल्पलाइन नम्बर – RTO Customer Care Number क्या है? 


RTO Customer Care Number (Rto Office Toll Free Number) - +91-120-2459168 


RTO का ईमेल - vahan@gov.in



निष्कर्ष- 


RTO का फुल फॉर्म Regional Transport Office होता है, उम्मीद करते हैं कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पता चल गया होगा कि RTO Kya Hai?, RTO Ka Full Form क्या होता है? और RTO क्या क्या काम करता है?। 


यह भी पढ़े…..


 

RTO Meaning In Hindi ब्लॉग पोस्ट से संबंधित यदि आपके मन में कोई भी सवाल है, तो आप हमे भेज सब नीचे कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं। RTO से संबंधित यह ब्लॉग पोस्ट यदि आपको पसंद आया है, तब इस ब्लॉग और पोस्ट को भी पढ़े। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ